• READERS' OAK WEEKLY

अनकहे एहसास

Updated: May 10

कहानी (भाग 1)

कहानी (भाग 2)

शाम का वक्त था, उस दिन कॉलेज में कुछ अलग ही माहौल था। म्यूज़िक बज रही थी और फर्स्ट ईयर के दो लड़कों ने डीजे का मोर्चा संभाला हुआ था। तब लखनऊ में ऐसे मौके कम ही मिलते थे, पहले मुज़िक पार्टी होने के और दूसरा मां बाप से परमिशन मिलने के। इसलिए सब स्कूल और कॉलेज की ही पार्टियों मे कसर पूरी कर लेते थे।


उस दिन सब एक से बढ़ कर एक लग रहे थे जैसे कि मि. या मिस इंडिया कॉन्टेस्ट में आएं हों। सब इस दिन के लिए पूरे एक महीने से तैयारी में जुटे हुए थे। सब यही सोचकर आए थे कि सबकी निगाहें उन्हीं पर हों। कोई किसी से कम नहीं दिखना चाहता था। मैं भी ऐसे ही तैयार होकर गया था पर मेरी वजह थी-- सपना।